Home Treks in Himachal Pradesh Deo Tibba Trek

Deo Tibba Trek

by Pankaj Pant
0 comment

Deo Tibba Trek

देव टिब्बा ट्रैक

DEO-TIBBA-TREK

Deo Tibba Trek: हिमाचल अपनी प्राकर्तिक खूबसूरती, बर्फीले पहाड़ो, नदियों, झरनो के कारण पूरे विश्व में प्रसिद्ध है यहाँ की संस्कृति व रहन सहन पर्यटकों को हमेशा से अपनी और आकर्षित करती आयी है हिमांचल की तरफ पड़ने वाले हिमालय क्षेत्र में कई ऐसे खूबसूरत ट्रैक्स है जिस पर सालो से देशी-विदेशी पर्यटकों का आना-जाना लगा रहता है ये ट्रैक सदियों से पर्यटकों को अपनी और आकर्षित करते आये है इनमे से एक बेहद खूबसूरत ट्रैक है देव टिब्बा ट्रैक

देव टिब्बा ट्रैक हिमाचल के खूबसूरत ट्रैक्स में से एक है जो जिला कुल्लू में स्थित है यह ट्रैक मनाली के हिमालय पर्वत श्रेणी के पीर पंजाल पर्वत श्रेणी में स्थित है जो समुद्र तल से 6,001 मीटर अर्थात 14,700 फ़ीट की ऊंचाई पर स्थित है यह ट्रैक छोटा चन्द्रतल ट्रैक के नाम से भी जाना जाता है इस ट्रैक पर आपको कई सारी औसधिय गुणों से भरपूर जड़ी-बूटियाँ, वनस्पतियाँ और कई जंगली जीव जन्तु भी देखने को मिल जायेंगे यहाँ उपलब्ध जड़ी बूटियों का इस्तेमाल कई सारे असाध्य रोगो के लिए दवाइयाँ बनाने के काम में आते है

इस ट्रैक की शुरुवात मनाली के जगतसुख गांव से शुरू होती है जगतसुख गांव मनाली से 5 किमी की दूरी पर स्थित है तथा ये गांव इस ट्रैक का बेस पॉइंट भी है यह पूरा ट्रैक लगभग 62 किमी के आसपास पड़ता है इस पूरे ट्रैक में आने व जाने में 5 से 7 दिन तक का समय लग जाता है पूरे ट्रैक में ट्रैकर्स को हरी भरी वादियों के साथ बड़े-बड़े घास के मैदान दिखाई पड़ते है जो पर्यटकों को मन्त्रमुघ्द कर देते है

वही इस ट्रैक पर जाते हुए आपको कई खूबसूरत व बर्फ से ढके हुए विशाल पर्वत भी देखने को मिलते है जो देखने में बेहद खूबसूरत प्रतीत होते है इस पर्वतो मेँ मुख्यतः इन्द्रासन व जगतसुख जैसे पर्वत चोटियाँ आती है सूर्य देवता की सुबह की पहली किरण जब इन पर्वतो पर पड़ती है तो ये हिमाछादित पर्वत सोने की भांति चमक उठते है जिन्हे देखते ही पर्यटक आनंद विभोर हो उठते है वही सुबह की मंद-मंद चलती हुई हवाएँ पर्यटको के मन को छू जाती है   

देव टिब्बा ट्रैक(Deo Tibba Trek) हिमांचल के अन्य ट्रैक्स की अपेक्षाकृत थोड़ा आसान माना जाता हैइस कारण इस ट्रैक पर किसी भी उम्र के लोग आसानी से जा सकते है बस ट्रैक पर जाने हेतु ट्रैकर्स को मानसिक व शारारिक रूप से मजबूत होना आवश्यक है इस ट्रैक के आसान होने के कारण ट्रैकर्स पहली बार में ही इस ट्रैक पर जा सकते है यह ट्रैक कुल्लू के खूबसूरत गाँवो तथा सुन्दर घाटियों से घिरा हुआ है इन घाटियों में मुख्यतः पाण्डुरोपा, सेतन, रौरीखौड़ी तथा चिक्का गांव मुख्य है इन गाँवो में हिमाचल की संस्कृति व सभ्यता को नजदीक से देखा जाया जा सकता है वही मार्ग के मध्य में एक प्राचीन गांव जोगीदुग पड़ता है जो की पुरातन मान्यता के अनुसार “थक्षग नाग” व अन्य अठारह नागो का निवास स्थल माना गया है  

Things to Carry

साथ ले जाने वाली वस्तुएँ

ट्रैक पर जाते समय आपको स्वयं सावधानी बरतने के साथ रोजाना के प्रयोग होने वाली जरूरत की चीजों को भी अपने साथ ले जाना आवश्यक होता है साथ ही आपको छोटी-मोटी शारीरिक परेशानियों के लिए सर दर्द, पैट ख़राब व अन्य रोगो के उपचार हेतु फर्स्ट ऐड की चीजे व दवाइयां भी जरूर ले जानी चाहिए ताकि आवस्यकता अनुसार जरूरत के समय ये प्रयोग में लाई जा सके

 

वहाँ का मौसम प्रति घंटे के हिसाब से बदलता रहता है जिस कारण वहाँ ठण्ड भी अधिक रहती है इस कारण आपको ठण्ड व बारिश से बचाव हेतु रैनकोट, फुल स्लीव्स पतली जैकेट्स, मंकी कैप, ट्रैकिंग शूज, गर्म मोज़े, मफलर, तौलिए, धुप से बचाव हेतु अच्छे किस्म के चश्मे, कोल्ड क्रीम, लिप बाम, सनस्क्रीन लोशन, एल०ई०डी टॉर्च, गर्म पानी की बोतल, ट्रैकिंग पोल, सिरदर्द की दवाइयाँ जैसे क्रोसिन, डिस्प्रिन, कॉटन, बैंड-ऐड, मूव स्प्रे, गौज, क्रैप बैंडेज आदि चीजे है जो आपको ट्रैक पर जाते समय अपने साथ रखनी चाहिए इनकी जरूरत आपको ट्रैक पर जाते वक्त कभी भी पड़ सकती है ट्रैक पर जाने से 2 या 3 दिन पहले आपको अधिक मात्रा में पानी भी पीना चाहिए जिससे आप Dehydration से बचे रह सके

यात्रा कार्यक्रम

Itinerary to Deo Tibba Trek

जगतसुख/खनोल से छिक्का –    (9 किमी, लगभग 8 से 9 घण्टे)

चिक्का से सेरी –              (11 किमी, लगभग 6 से 7 घंटे)

सेरी से टेण्टा –                (10 किमी ,लगभग 6 से 7 घंटे)

टेण्टा से छोटा चन्द्रताल से टेण्टा -(6 किमी, लगभग 5 से 6 घंटे)

टेण्टा  से छिक्का –             (9 किमी, लगभग 9 से 10 घंटे)

छिक्का से जगतसुख –          17 किमी, लगभग 9 से 10 घंटे)

DEO-TIBBA-TREK
PANDU ROPA ON THE WAY TO DEO TIBBA TREK

Deo Tibba Trek पर कैसे जाये

How to go to Tibba Trek

प्रथम दिवस: First Day: यह ट्रैक मनाली के जगतसुख से शुरू होता है जगतसुख से आपको ट्रैक द्धारा छीका तक जाना होता है जो जंगलो के बीच में से होकर गुजरता है यहाँ पर नाग देवता की सुन्दर आकर्ति एक पत्थर पर प्राकर्तिक रूप से बनी हुई है वही यहाँ पर नाग देवता का एक मंदिर भी बना हुआ है यहाँ आकर ट्रैकर्स को असीम शांति की प्राप्ति होती है

 

छीका में ही आप रात्रि विश्राम कर सकते है यहाँ रुकने के लिए भी जगह बनी हुई है छीका की ऊंचाई समुद्र तल से 10,498 फ़ीट है तथा जगतसुख से छीका तक पहुचने में लगभग 7 से 8 घंटे तक का समय लग जाता है   

दूसरा दिवस: Second Day: आपके अगले दिन की सुरुवात छीका से होती है तथा आपको सेरी तक जाना होता है इस दिन के पूरे ट्रैक में आपको चारो और फैली हुई हरियाली के साथ कई झरने भी देखने को मिल जायेंगे ये रास्ता पाण्डु रोपा के बीच से होता हुआ जाता है सेरी पहुंचकर आपको यहाँ पर एक विशाल चरागाह दिखाई देता है तथा इसके चारो और विशाल बर्फ से ढके पर्वत दिखाई पड़ते है जो ट्रैकर्स के लिए जीवन भर के लिए कभी न भूलने वाला अनुभव होता है 

इस दिन का पूरा ट्रैक लगभग 11 किमी का होता है जिस पर जाने में 6 से 7 घंटे तक का समय लग जाता है सेरी समुद्र तल से 11,800 फ़ीट की ऊंचाई पर स्थित है आप सेरी के खुले व विशाल चारागाह में तथा आसमान में चारो तरफ बिखरे हुए तारो और सामने ही बहते हुए झरनो के बीच टेंटों में रात्रि विश्राम का आनंद ले सकते है

तीसरा दिवस: Third Day: आपके अगले दिन की शुरुवात सेरी से होती है तथा इस दिन आपको सेरी से टेण्टा तक जाना होता है ये इस पूरे ट्रैक का मुख्य भाग है तथा अन्य दिनों की अपेक्षा कुछ कठिन भी हैइस ट्रैक के दौरान कही कही आपको चढ़ाई पर जाना होता है व कही पर लम्बी ढलाने है ये पूरा ट्रैक लगभग 10 किमी का होता है जिस पर जाने में आपको लगभग 10 घंटे तक का लम्बा समय लग सकता है यहाँ पर बड़े बड़े विशाल बोल्डर रास्ते में गिरे हुए दिखाई पड़ जायेंगे टेण्टा की उचाई समुद्र तल से 12,800 फ़ीट है

WAY-TO-DEV-TIBBA-TREK
WAY-TO-DEV-TIBBA-TREK

चौथा दिवस: Fourth Day: चौथे दिन की यात्रा अब तक की सबसे महत्वपूर्ण यात्रा मानी जाती है यह ट्रैक टेंट से शुरू होकर चन्द्रताल तक जाता है इस ट्रैक पर आपको सीधी चढ़ाई पर जाना होता है व लगभग 4500 मीटर तक की ऊंचाई पर जाना होता है इतनी ऊंचाई पर जाते हुए ऑक्सीज़न की मात्रा भी कम होने लगती है तथा ट्रैकर्स के बीमार होने की सम्भावना भी बनी रहती है जिस कारण ट्रैकर्स को अधिक से अधिक पानी पीने की सलाह दी जाती है

यहाँ बेस कैम्प लगभग 4,500 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है यहाँ आपको चारो और बर्फ से ढके पहाड़ दिखाई देंगे वही साफ़ नीले पानी की एक झील भी दिखाई पड़ती है जो ट्रैकर्स को मन्त्रमुघ्द कर देती हैआप यहाँ पर मिनी चन्द्रताल व देव टिब्बा के आस पास घूमकर उसी दिन वापस टेण्टा मेँ वापस आ सकते है तथा उस दिन वही रात्रि विश्राम कर सकते है यह पूरा ट्रैक लगभग 5 से 6 किमी का होता है जिसमे जाने में 5 से 6 घंटे तक का समय लग जाता है  

पाँचवा दिन: Fifth Day: यह आपके पूरे ट्रैक का अंतिम भाग होता है आपको टेण्टा से छीका तक वापस आना होता है टेण्टा से छीका की दूरी लगभग 9 किमी होती है तथा आने में 6 से 7 घंटे तक का समय लग जाता है यही पर आप रात्रि विश्राम आदि कर सकते है तथा अगले दिन छीका से जगतसुख होते हुए मनाली में आपके ट्रैक का समापन हो जाता है  

देव टिब्बा ट्रैक
कैसे जाये

How to go to Deo Tibba Trek

By Air: हवाई मार्ग द्धारा: देव टिब्बा ट्रैक पर जाने के लिए सबसे पास स्थित हवाई अड्डा भुन्तर में है जो की मनाली से 52 किमी की दूरी पर स्थित है नई दिल्ली और चंडीगढ़ से आपको कुल्लू के भुंतर के लिए आसानी से हवाई सुविधा मिल जाएगी भुन्तर हवाई अड्डे से बाहर से लगातार सरकारी बसे भी मनाली के लिए चलती रहती है तथा प्राइवेट टैक्सी वाले भी 24 घंटे आपको हवाई अड्डे के बाहर ही खड़े मिल जायेंगे

 

आप यहाँ से बस या टैक्सी कर आसानी से मनाली तक पहुंच सकते है प्राइवेट टैक्सी वाले आपसे मनाली तक पहुंचाने के लिए अधिकतम 1000 रुपए से 1500 रुपया तक का किराया लेते है

By Bus: सड़क मार्ग द्धारा: देव टिब्बा ट्रैक पर जाने के लिए सबसे पास स्थित बस स्टेशन मनाली है जो देश के अधिकतर भागो से आसानी से जुड़ा हुआ है दिल्ली से मनाली की दूरी लगभग 550 किमी हैदिल्ली से मनाली के लिए आपको हर समय बस की सेवा उपलब्ध हो जाएगी

 

वही चंडीगढ़ से भी आप मनाली तक आसानी से पहुंच सकते है चंडीगढ़ से मनाली की दूरी 310 किमी है जहाँ आपको पहुंचने में लगभग 8 घंटे का तक का समय लग जाता है जहाँ से आपके ट्रैक की शुरुवात होती है    

DEO-TIBBS-TREK
ON THE WAY TO DEO TIBBA TREK

देव टिब्बा ट्रैक पर कब जाये

When
to go Deo Tibba Trek

देव टिब्बा ट्रैक पर जाने के लिए सबसे अच्छा मौसम अप्रैल से लेकर अक्टूबर तक का होता है उसके बाद बारिश का सीजन होने के कारण ट्रैक पर फिसलने का खतरा रहता है 

अप्रैल से अक्टूबर के दौरान यहाँ का मौसम अधिकतर साफ़ रहता है जिस कारण आप यहाँ प्रकर्ति का भरपूर आनंद ले सकते है

Know about
another Treks in Himachal Pradesh click here

हिमाचल
प्रदेश के अन्य ट्रैक्स के बारे में जानने के लिए यहाँ क्लिक करे

Related Posts

Leave a Comment

Uttarakhand "Where the journey starts"