Home Treks in Himachal Pradesh Hampta Pass Trek

Hampta Pass Trek

by Pankaj Pant
1 comment
Enjoy-Trekking-in-Harsil

Hampta Pass Trek

 

हामटा पास ट्रैक

HAMPTA-PASS-TREK

हामटा पास दर्रा हिमाचल के हिमालयी क्षेत्र में पड़ता है जो हिमालय के पीर पंजाल के हिमालयी क्षेत्र के अंतर्गत आता है हामटा पास समुद्र तल से लगभग 14,100 फ़ीट की ऊंचाई पर स्थित है जिसके चारो और बर्फ से ढके हुए विशाल पर्वत है इस पूरे ट्रैक पर आपको देवदार के सुन्दर वृक्षों के अलावा झरने, बर्फ से जमे लटकते हुए ग्लेशियर, झीले, पिनवुड, छोटे -छोटे कोमल घास के मैदान दिखाई दे जायेंगे जो इस पूरे ट्रैक को और भी रोमांचित और खूबसूरत बना देते है

 

हामटा पास ट्रैक की शुरुवात हिमाचल के खूबसूरत शहर मनाली से होती है जो एक विश्व प्रसिद्ध पर्यटक स्थल भी है जहाँ हर साल देश-विदेश से हजारो-लाखो पर्यटक इस खूबसूरत शहर की संस्कृति और सभ्यता को देखने के लिए आते है

ये पूरा शहर देवदार के वृक्षों से ढका हुआ है जो इस शहर की सुंदरता पर चार चाँद लगा देता है वही सीजन में यहाँ जम के बर्फ़बारी होती है जो पर्यटको को और भी रोमांचित कर देती है हामटा पास दर्रा लाहौल की चंद्र घाटी और कुल्लू घाटी के बीच में स्थित है यहाँ से हामटा पास ट्रैक में आने व जाने में तक़रीबन 3 से 4 दिन तक का समय लग जाता है 

 

 

इस ट्रैक का नाम इस ट्रैक के बीच पड़ने वाले एक छोटे से गांव हामटा के नाम पर रखा गया है हामटा पास का इस्तेमाल ज्यादातर हिमालयी क्षेत्र के रहने वाले चरवाहे लोग किया करते है गर्मियों के समय पर जब लाहौल व उसके आस पास की जमीने बंजर हो जाती है तब चरवाहे लोग यहाँ पर मौजूद घास के मैदानों में अपने बकरियों को इन घास के मैदान में चराने के लिए ले जाते है

 

यह ट्रैक हिमालय के अन्य ट्रैक्स के मुकाबले में ज्यादा कठिन नहीं है इस कारण ट्रैक पर कोई भी आसानी से आ जा सकता है बस ट्रैक पर जाने के लिए आपको मानसिक व शारारिक रूप से मजबूत होने की आवश्यकता होती है यह ट्रैक मनाली से शुरू होकर चन्द्रताल के पास चतरू में जाकर समाप्त होता हैआपको हामटा दर्रे के साथ साथ होकर जाना होता है जहाँ बीच में आपको हर पल बदलते हुए मनोहारी मौसम व हरी-भरी प्राकर्तिक छटा के दर्शन होते है जो पर्यटको को एक अलग ही दुनिया में ले जाते है

साहसिक खेलो को पसन्द करने वालो के लिए भी ये ट्रैक किसी अचरज से कम नहीं है यहाँ हर पल चलती बर्फीली हवाएँ, चारो और खड़े देवदार के पेड़ो के बीच सफ़ेद बादलो की धुंध को देखकर ऐसा प्रतीत होता है जैसे आप स्वर्ग की तरफ जाने वाले रास्ते पर जा रहे हो ये सब देखकर आपको विश्वास भी नहीं होगा की आप किसी ट्रैक पर यात्रा हेतु जा रहे है ये अनुभूति आपके जीवन में कभी न भूलने वाला अनुभव होगा 

इस ट्रैक पर आपको अन्य ट्रैक्स की तरह बीच में कही पर भी खाने-पीने, टी- हॉउस और मोबाइल कनेक्शन जैसे जरूरत की चीजे नहीं मिल पाती है मोबाइल का नेटवर्क भी आपको परिनी(Prini) तक ही उपलब्ध हो सकता है उसके बाद आप पूरी तरह से प्रकर्ति के साथ व प्रकर्ति की गोद में होते है परन्तु यहाँ जाने का रास्ता अच्छा है जिस कारण आप आसानी से ट्रैक को पूरा कर सकते है यह पूरा ट्रैक लगभग 26 किमी का है जिस पर आने व जाने में लगभग 4 से 5 दिन तक का समय लग जाता है

 

Enjoy-Trekking-in-Harsil
Enjoy-Trekking-in-Harsil

Things to Carry


साथ ले जाने वाली वस्तुएँ

हामटा पास ट्रैक पर जाने से पहले कुछ चीजों को साथ जरूर ले जाना चाहिए जो आपके लिए अति आवश्यक भी है वहाँ का मौसम प्रति घंटे के हिसाब से बदलता रहता है जिस कारण वहाँ ठण्ड भी अधिक रहती है इस कारण आपको ठण्ड व बारिश से बचाव हेतु रेन चीटर, फुल स्लीव्स पतली जैकेट्स, मंकी कैप, ट्रैकिंग शूज, गर्म मोज़े, मफलर, तौलिए, धुप से बचाव हेतु अच्छे किस्म के चश्मे, कोल्ड क्रीम, लिप बाम, सनस्क्रीन लोशन, लेड टॉर्च, गर्म पानी की बोतल, ट्रैकिंग पोल, सिरदर्द की दवाइयाँ जैसे क्रोसिन, डिस्प्रिन, कॉटन, बैंड-ऐड, मूव स्प्रे, गौज, क्रेप बैंडेज आदि चीजे है जो आपको ट्रैक पर जाते समय अपने साथ रखनी चाहिए इनकी जरूरत आपको ट्रैक पर जाते वक्त कभी भी पड़ सकती है ट्रैक पर जाने से 2 या 3 दिन पहले आपको अधिक मात्रा में पानी भी पीना चाहिए जिससे आप Dehydration से बचे रह सके

यात्रा कार्यक्रम

 

Itinerary

पहला दिन    – मनाली से जोबरा (19 किमी ड्राइव) , ट्रैक जोबरी से चीका (3-4 घंटे ट्रैक)

दूसरा दिन    – चीका से बालू का घेरा (ट्रैक 5 से 6 घण्टे)

तीसरा दिन   – बालू का घेरा से हमता पास से सिआ गोरु (ट्रैक 7 से 8 घण्टे) 

चौथा दिन    – सिआ गोरु से छतरू (ट्रैक 5 घण्टे)

हामटा पास ट्रैक पर कैसे जाये:


How to go to Hamta pass Trek

पहला दिन: हामटा पास ट्रैक की शुरुवात मनाली से होती है सबसे पहले आपको मनाली से जोबरा तक जाना होता है जो सड़क मार्ग से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है यहाँ तक आप अपने प्राइवेट वाहन द्धारा आसानी से पहुंच सकते है जोबरा की दूरी मनाली से लगभग 16 किमी है तथा यहाँ तक पहुंचने में आपको तकरीबन 1 घंटे का समय लग जाता है जोब्रा ही इस पूरे ट्रैक का बेस कैंप भी है जिसकी ऊंचाई समुद्र तल से 9,800 फ़ीट है

 

इसके बाद आपको जोब्रा से चिका(Chika) तक पैदल ट्रैक करते हुए जाना होता है जो समुद्र तल से लगभग 10,400 फ़ीट की ऊंचाई पर स्थित है जोबरा से चीका तक पहुँचने में 3 से 4 घंटे का समय लगता है। इस ट्रैक के रास्ते पर आपको पालम तथा ओक के वृक्षों के साथ साथ लकड़ी के पुल दिखाई पड़ते है जो आपके पहले दिन की यात्रा में चार चाँद लगा देते है यहाँ पर ट्रैकर्स के रहने के लिए कुछ लॉज बने हुए है जहाँ पर रूककर रात्रि विश्राम व भोजन आदि किया जा सकता है तथा अगले दिन से अपने ट्रैक की शुरूवात कर सकते है

 

दूसरा दिन: दूसरे दिन की शुरुवात आपको चीका(Chika) से करनी होती है जो बालू के घेरा(Balu Ke Ghera) पर जाकर खत्म होती है जो पहले दिन की अपेक्षा अधिक कठिन व और ज्यादा रोमांचकारी होता है इस ट्रैक पर जाने के लिए आपको चन्द्रा नदी(Chandra River) के साथ साथ जाना होता है जिसके बीच में आपको छोटे-छोटे घास के मैदान, झरने व खूबसूरत धौलाधार के बर्फ से ढके पर्वतो को देखने का मौका मिलता है बालू का घेरा(Balu Ka Ghera) की ऊंचाई समुद्र तल से लगभग 11,000 फ़ीट है जो पहाड़ो के बीच में स्थित एक सुन्दर घास का मैदान है यही पर आप टेंट आदि लगाकर रात्रि विश्राम व स्वयं के लिए भोजन आदि की व्यवस्था कर सकते है

 

Monsoon-Season
Monsoon-Season

तीसरा दिन: आपके तीसरे दिन की शुरुवात बालू के घेरे(Balu Ka Ghera) से शुरू होती है तथा हामटा पास(Hamta Pass) पर जाकर ख़त्म होती है तीसरे दिन का ट्रैक पहले व दूसरे दिन की अपेक्षा ज्यादा चुनौतियों से भरा हुआ होता है तथा ज्यादा लम्बा भी होता है ये ट्रैक लगभग 13 किमी लम्बा होता है जिस पर जाने में कम से कम 8 से 10 घंटे का समय लग जाता है ट्रैक द्धारा आप ऊपरी बालू के गेरा(Balu Ke Gera) तक पहुंच सकते है यहाँ से आप बर्फ से ढके पहाड़ो के साथ देव टिब्बा, इन्द्रसेन पीक, इन्दर्कीला इंदरकिला की खूबसूरत पहाड़ियों व आसपास की सुन्दरता को काफी करीब से देख सकते हैA हामटा पास की ऊंचाई लगभग 14,100 फ़ीट है हामटा पास दर्रा से लगभग 3 से 4 घंटे की चढाई कर ऊपर पहुंचने पर आप सीमा गुरु तक पहुंच जायेंगे यहाँ पहुँचकर आपको अद्भुत शांति की प्राप्ति होती है आप अगर चाहे तो उसी दिन वापस बालू के घेरे पर आ सकते अन्यथा आप हामटा पास में ही टेंट वगैरह लगाकर विश्राम कर सकते है तथा अगले वापस आने की योजना बना सकते है

 

चौथा दिन: अगले दिन प्रातः आप सिआ गुरु से मौसम के साफ़ होने पर चंद्र ताल होते हुए छतरु तक पहुंच सकते है इस दिन का ट्रैक अन्य दिन के मुकाबले आसान होता है वही आपको प्रकर्ति की सुंदरता को देखने का भी मौका मिलता है अंतिम दिन का ट्रैक लगभग 5 घंटे का होता है वही यही पर आपके ट्रैक का भी अंत होता है यहाँ से आप वाहन द्धारा रोहतांग पास होते हुए मनाली तक पहुंच सकते है

hampta-pass-trek
HAMPTA-PASS-TREK

हामटा पास कैसे जाये:


 How to go Hampta Pass Trek

By Air: हवाई मार्ग द्धारा: हामटा पास ट्रैक पर जाने के लिए सबसे पास स्थित हवाई अड्डा भुन्तर में है जो की मनाली से 52 किमी की दूरी पर स्थित है भुन्तर से लगातार सरकारी बसे भी मनाली के लिए चलती रहती है तथा प्राइवेट टैक्सी वाले भी 24 घंटे आपको हवाई अड्डे के बाहर ही खड़े मिल जायेंगे आप यहाँ से बस या टैक्सी कर आसानी से मनाली तक पहुंच सकते है प्राइवेट टैक्सी वाले आपसे मनाली तक पहुंचाने के लिए अधिकतम 1000 रुपए से 1500 रुपया तक का किराया लेते है मनाली पहुँच कर आप उसी टैक्सी या किसी अन्य टैक्सी को किराये पर लेकर जोबरा पहुंच सकते है जहाँ से आपके ट्रैक की शुरुवात होती है  

 

By Bus: सड़क मार्ग द्धारा: हामटा पास ट्रैक पर जाने के लिए सबसे पास स्थित बस स्टेशन मनाली है जो देश के अधिकतर भागो से आसानी से जुड़ा हुआ है दिल्ली से मनाली की दूरी लगभग 550 किमी हैदिल्ली से मनाली के लिए आपको हर समय बस की सेवा उपलब्ध हो जाएगी

 

वही चंडीगढ़ से भी आप मनाली तक आसानी से पहुंच सकते है चंडीगढ़ से मनाली की दूरी 310 किमी है जहाँ आपको पहुंचने में लगभग 8 घंटे का तक का समय लग जाता है मनाली पहुँच कर आप उसी टैक्सी या किसी अन्य टैक्सी को किराये पर लेकर जोबरा जा सकते है जहाँ से आपके ट्रैक की शुरुवात होती है    

 

हामटा पास ट्रैक पर कब जाये:


When to go Hampta Pass Trek

हामटा पास ट्रैक पर जाने के लिए सबसे अच्छा मौसम अप्रैल से लेकर अक्टूबर तक का होता है उसके बाद बारिश का सीजन होने के कारण ट्रैक पर फिसलने का खतरा रहता है अप्रैल से अक्टूबर के दौरान यहाँ का मौसम अधिकतर साफ़ रहता है जिस कारण आप यहाँ प्रकर्ति का भरपूर आनंद ले सकते है  

Related Posts

1 comment

Lime Green TechArt Porsche 911 Targa 4 - McLaren 650S Forum May 19, 2020 - 1:22 pm

[…] 03:52 AM hindiworldtravelfeed Junior Member   Join Date: Apr 2020 Posts: 3 पिन पार्वती ट्र&#2376…http://hindi.worldtravelfeed.com/hampta-pass-trek/ hindiworldtravelfeed is online now […]

Reply

Leave a Comment

Uttarakhand "Where the journey starts"